मोबाइल जैमर क्या होता है? मोबाइल जैमर का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

मोबाइल जैमर क्या होता है?

 मोबाइल जैमर क्या होता है? मोबाइल जैमर का इस्तेमाल क्यों किया जाता है? - मोबाइल जैमर कैसे काम करता है? आज इस आर्टिकल में हम आपको एक बहुत इंटरेस्टिंग टॉपिक पर जानकारी देने जा रहे हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं मोबाइल जैमर क्या है? मोबाइल जैमर कैसे काम करता है? अगर आप मोबाइल जैमर के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारा आर्टिकल आखिरी तक पूरा पढ़िए। आज इस आर्टिकल में हम आपको मोबाइल जैमर के बारे में संपूर्ण जानकारी विस्तार से बताने जा रहे हैं।

दोस्तों जब भी आप किसी प्रतियोगी परीक्षा का एग्जाम देने जाते हैं या फिर किसी सैन्य अड्डे जैसे आर्मी एयरफोर्स स्टेशन के बगल से निकलते हैं। आपने गौर किया होगा अचानक आपके मोबाइल के सारे सिग्नल बंद हो जाते हैं। कई बार आपने टेलीविजन या मूवी में भी देखा होगा जब पुलिस वाले किसी नेता के घर रेड करने जाते हैं तो उसके घर के मोबाइल के सारे सिग्नल को बंद कर देते हैं। अब आप सभी सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा कैसे हो जाता है कि कोई व्यक्ति हमारे मोबाइल के सारे सिग्नल को बंद कर देता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें यह सब कुछ मोबाइल जैमर के द्वारा होता है।

Read More - मोबाइल का Boot Animation कैसे चेंज करें?

जब भी हम में से कोई व्यक्ति मोबाइल जैमर के बारे में सुनता है या मोबाइल जैमर को देखता है उसके मन में ढेर सारे क्वेश्चन आ जाते हैं। यदि आपको भी मोबाइल जैमर के बारे में जानकारी नहीं है कि निश्चित रूप से आपके मन में उत्सुकता होगी मोबाइल जैमर के बारे में जानने के लिए । आपके सभी प्रश्नों का उत्तर तथा आपकी सारी कन्फ्यूजन आज इस आर्टिकल में समाप्त हो जाएगी, क्योंकि आज इस आर्टिकल में हम आपको विस्तार से मोबाइल जैमर के बारे में बताएंगे।

मोबाइल जैमर क्या है?

अगर आप जानना चाहते हैं मोबाइल जैमर क्या है? आपकी जानकारी के लिए बता दूं मोबाइल जैमर एक इलेक्ट्रिक फ्रीक्वेंसी डिवाइस होता है। यह निश्चित रेंज के सभी स्मार्टफोन, वॉकी टॉकी रेडियो सिगनल या जितने भी सिग्नल होते हैं उनको बाहर जाने से रोकता है। जिस स्थान पर जैमर रखा होता है वहां पर ना तो किसी की कॉल आ सकती है और न तो आप किसी को कॉल कर सकते हैं। 

मोबाइल जैमर को कुछ कुछ स्थानों पर सेलफोन जैमर, तथा कुछ स्थानों पर सर्कुलर नेटवर्क जैमर के नाम से भी जानते हैं। बात मोबाइल जैमर की साइज की करें तो आपको जानकर हैरानी होगी मोबाइल जैमर की साइज एक स्मार्टफोन के बराबर होती है तथा कुछ-कुछ मोबाइल जैमर की साइज एक बड़े बक्से जितनी भी होती है।

मोबाइल जैमर की साइज इस बात पर निर्भर करती है कि आप कितनी रेंज का मोबाइल जैमर खरीदना चाहते हैं। आप जितनी ज्यादा रेंज का मोबाइल जैमर खरीदेंगे आप उतनी ही अधिक दूर के मोबाइल सिग्नल को जैम कर सकते हैं। आज मार्केट में अलग-अलग रेंज के मोबाइल जैमर उपलब्ध है। 

मोबाइल जैमर की रेंज

जैसा कि हम आपके ऊपर बता चुके हैं मोबाइल जैमर की रेंज उनके साइज पर डिपेंड करती है। यदि आप एक नॉर्मल मोबाइल जैमर खरीदते हैं तो यह लगभग 50 से 100 मीटर रेंज के नेटवर्क को जैम कर सकते हैं। जितने भी आर्मी एयरफोर्स स्टेशन होते हैं वहां पर इतने बड़े जैमर लगाए जाते हैं कि वह लगभग 5 या 10 किलोमीटर रेंज के सभी नेटवर्क को जैम कर देते हैं।

मोबाइल जैमर कैसे काम करता है?

आप सभी के मन में यह प्रश्न बार-बार आ रहा होगा आखिर मोबाइल जैमर कैसे काम करता है? किस प्रकार मोबाइल जैमर हमारे फोन के सिग्नल को बंद कर सकता है?

जैसा की आप सभी को पता होगा हमारे मोबाइल में जितने भी नेटवर्क आते हैं वह बड़े बड़े मोबाइल टावर से होकर आते हैं। हम जिस मोबाइल टावर के नजदीक में रहते हैं उसी मोबाइल टावर से हमारे फोन में सिग्नल आना स्टार्ट हो जाते हैं। जब हम किसी व्यक्ति को कॉल करते हैं या कोई व्यक्ति हमें कॉल करता है तो सबसे पहले उसके मोबाइल फोन से सिग्नल निकलकर नजदीकी टावर में जाते हैं, फिर यह सिंगल उस टावर में जाते हैं जहां पर आप का फोन होगा। इसके बाद यह सिग्नल आपके पास के टावर से आपके फोन में आते हैं।

जिस स्थान पर मोबाइल जैमर रखा होता है उस स्थान पर मोबाइल जैमर के द्वारा एक हाई फ्रिकवेंसी तरंग निकलती है। जैमर से निकलने वाली तरंग की फ्रीक्वेंसी आपके स्मार्टफोन से निकलने वाली तरंगों की फ्रीक्वेंसी से कई गुना अधिक होती है। इसी कारण जैमर से निकलने वाली फ्रीक्वेंसी उस रेंज में एक निश्चित आवरण बना लेती है। 

जब आपके फोन से निकलने वाली कोई किरण इस आवरण के पास पहुंचती है तो यह किरण कम फ्रीक्वेंसी की होने के कारण इस आवरण को पार नहीं कर पाती है, जिस कारण आपके स्मार्टफोन तथा स्मार्टफोन टावर के बीच कम्युनिकेशन नहीं हो पाता है और आपके स्मार्टफोन के सारे सिग्नल आना बंद हो जाते हैं। 

स्मार्टफोन तथा मोबाइल टावर इन दोनों के बीच हमेशा नेटवर्क का आदान-प्रदान होता रहता है। मोबाइल टावर से आपके मोबाइल में एक सिग्नल आता है और आपके मोबाइल से मोबाइल टावर में सिग्नल भेजा जाता है। लेकिन जिस स्थान पर जैमर लगा होता है उस स्थान की फ्रीक्वेंसी इतनी अधिक हो जाती है कि आपके मोबाइल से निकलने वाला सिग्नल मोबाइल टावर तक पहुंच पाता है और ना मोबाइल टावर से निकलने वाला सिग्नल आपके मोबाइल पर पहुंच पाता है।

मोबाइल जैमर का इस्तेमाल कहां कहां पर किया जाता है

नीचे हम आपको उन प्रमुख स्थानों के नाम बता रहे हैं जहां पर मोबाइल जैमर का इस्तेमाल किया जाता है।

  • कुछ कुछ कंपनियां अपने कंपनी के अंदर मोबाइल जैमर लगा देती हैं ताकि उनके कर्मचारी मोबाइल में बात करके समय बर्बाद ना करें और कंपनी में काम पर ध्यान दें। 
  • यदि आपके क्षेत्र में किसी बड़े नेता की रैली है तो निश्चित रूप से आपके क्षेत्र में मोबाइल जैमर लगा दिया जाएगा ताकि कोई व्यक्ति भगदड़ मचाने की कोशिश ना कर पाए। यदि वह कोशिश करता है तो वह सफल ना हो पाए।
  • आपने देखा होगा जब किसी मुख्यमंत्री या बहुत बड़े नेता की गाड़ियों का काफिला निकलता है तो उसमें से सबसे आगे एक गाड़ी होती है जिसके ऊपर बड़ा मोबाइल जैमर रखा होता है। यह मोबाइल जैमर रेंज के सभी मोबाइल के सिग्नल को बंद कर देता है ताकि कोई व्यक्ति नेता के काफिले की जानकारी किसी गलत आदमी को ना दे पाए।
  • जब हमारे देश के सीबीआई या इनकम टैक्स अधिकारी किसी बिजनेसमैन या पॉलीटिशियन के घर छापा मारने जाते हैं तो उस घर के सभी मोबाइल को जैमर की मदद से बंद कर देते हैं।
  • विश्वविद्यालय या बड़े विद्यालयों में जब कुछ मुख्य पेपर होते हैं तो वहां पर जैमर लगा दिया जाता है ताकि कोई छात्र इंटरनेट की मदद से निकल ना कर पाए।
  • आतंकवादी गतिविधियों और मुखबिरी को रोकने के लिए हर छावनी कैंट एयरफोर्स आर्मी स्टेशन में जैमर लगाया जाता है।

 निष्कर्ष

यह आपके लिए एक छोटी सी जानकारी थी जिसमें आज हमने आपको मोबाइल जैमर के बारे में बताया। आज हमने आपको बताया मोबाइल जैमर क्या है? मोबाइल जैमर का इस्तेमाल क्यों किया जाता है? मोबाइल जैमर कैसे काम करता है? आशा करता हूं यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी है इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। आर्टिकल को आखरी तक पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।


Post a Comment

Previous Post Next Post